×
You need to subscribe to view this content.
Click here to subscribe.
राष्ट्रीय आय

राष्ट्रीय आय किसी नियत अवधि के दौरान देश में उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं की कुल राशि है। यह एक राष्ट्र के उत्पादन के कारकों (श्रम, पूंजी, भूमि और उद्यमशीलता सहित) के जरिए प्राप्त कारक आय अर्थात् मजदूरी, ब्याज, किराया, लाभ का योग है। राष्ट्रीय आय की विभिन्न संकल्‍पनाएं हैं जैसे जीडीपी, जीएनपी, एनएनपी, व्यक्तिगत आय, उपयोग योग्‍य आय और प्रति व्यक्ति आय जिनसे आर्थिक गतिविधियों के तथ्यों की व्याख्या की जाती है।

>प्रति व्यक्ति आय एनएनआई पर XXX XXX
सकल घरेलू उत्पाद
>सकल घरेलू उत्पाद XXX XXX
>कृषि से जी.डी.पी XXX XXX
>उद्योग से सकल घरेलू उत्पाद XXX XXX
>सेवाओं से जी.डी.पी XXX XXX
>जीडीपी वार्षिक विकास दर XXX XXX
जीएसटी
>जीएसटी संग्रह XXX XXX
>जीएसटी रिटर्न्स दायर XXX XXX
सार्वजनिक वित्त
>कुल प्राप्तियां XXX XXX
>कुल व्यय XXX XXX
>राजकोषीय घाटा XXX XXX
मुद्रा स्फीति

मुद्रास्फीति में वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों के सामान्य स्तर में वृद्धि को मापा जाता है। इससे पैसे की खरीदने की शक्ति में कमी आने से सभी पर इसका प्रभाव होता है, जिसके परिणामस्वरूप जीवन की रोजमर्रा की लागत बढ़ जाती है जिसका अंततः गरीबों पर सबसे अधिक प्रभाव होता है। मुद्रास्फीति की दर को या तो थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) या खुदरा मूल्य सूचकांक का उपयोग करते हुए मापा जा सकता है, जिसे आम तौर पर उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) कहा जाता है।

>प्राथमिक सामग्री XXX XXX
>खाद्य सामग्री XXX XXX
>गैर-खाद्य लेख XXX XXX
>खनिज पदार्थ XXX XXX
>कच्चा पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस XXX XXX
>ईंधन और बिजली XXX XXX
औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी)

औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) एक मात्रात्मक सूचकांक है, जिसे भौतिक रूप में वस्तुओं के उत्पादन से व्यक्त किया जाता है। आधार वर्ष में औसत मासिक उत्पादन की तुलना में चालू माह के दौरान उत्पादित वस्तुओं की मात्रा होती है। आईआईपी एक समग्र संकेतक है जिसके जरिए खनन, विनिर्माण, बिजली, मूलभूत सामान, पूंजीगत सामान और मध्यवर्ती सामान के तहत वर्गीकृत उद्योग समूहों की विकास दर को मापा जाता है।

>खनिज XXX XXX
>विनिर्माण XXX XXX
>बिजली XXX XXX
>प्राथमिक वस्तुएं XXX XXX
>पूंजीगत वस्तुएं XXX XXX
>मध्यवर्ती वस्तुएं XXX XXX
>बुनियादी ढांचा/निर्माण वस्तुएं XXX XXX
>उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं XXX XXX
>उपभोक्ता गैर-टिकाऊ XXX XXX
आठ मुख्य उद्योगों का सूचकांक

आठ प्रमुख उद्योगों का मासिक सूचकांक एक उत्पादन मात्रा सूचकांक है। इसके जरिए चुने हुए आठ प्रमुख उद्योगों में उत्पादन के सामूहिक और व्यक्तिगत प्रदर्शन को मापा जाता है। भारतीय अर्थव्यवस्था के आठ प्रमुख क्षेत्र कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली हैं। यह समग्र औद्योगिक प्रदर्शन और अर्थव्यवस्था में सामान्य आर्थिक गतिविधियों के लिए एक महत्वपूर्ण प्रमुख सूचकांक है।

>कोयला XXX XXX
>कच्चा तेल XXX XXX
>प्राकृतिक गैस XXX XXX
>रिफाइनरी उत्पाद XXX XXX
>उर्वरक XXX XXX
>इस्पात XXX XXX
>सीमेंट XXX XXX
>बिजली XXX XXX
बैंकिंग व वित्त

बैंकिंग एक ऐसा उद्योग है जिसमें क्रेडिट, नकद और अन्य वित्तीय लेनदेन का प्रबंधन किया जाता है। बैंकिंग में, बैंक में पैसे जमा करने और निकालने, मांग पर चुकाने, बचत करने और पैसे उधार देकर अच्छा मुनाफा कमाना शामिल होता है। ई-बैंकिंग वह तरीका है जिसमें ग्राहक इंटरनेट के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक रूप से लेनदेन करता है। इसमें जमा खातों, ऑनलाइन फंड ट्रांसफर, एटीएम, इलेक्ट्रॉनिक डेटा इंटरचेंज आदि का प्रबंधन किया जाता है।

बैंकिंग प्रदर्शन
>जमा XXX XXX
>श्रेय XXX XXX
>सीडी अनुपात XXX XXX
>स्वचालित टेलर मशीन (एटीएम) XXX XXX
बिक्री के बिंदु (पीओएस)
>बैंकिंग प्रदर्शन XXX XXX
डिजिटल लेनदेन
>मोबाइल बैंकिंग लेनदेन XXX XXX
>राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (एनईएफटी) XXX XXX
>रीयल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) XXX XXX
>एटीएम/पीओएस/ऑनलाइन (ई-कॉम)/अन्य पर क्रेडिट कार्ड का उपयोग XXX XXX
>एटीएम/पीओएस/ऑनलाइन (ई-कॉम)/अन्य पर डेबिट कार्ड का उपयोग XXX XXX
प्रमुख क्षेत्रों द्वारा सकल बैंक ऋण
>कुल सकल बैंक ऋण XXX XXX
>फूड क्रेडिट XXX XXX
>गैर-खाद्य ऋण XXX XXX
>कृषि और संबद्ध गतिविधियाँ (गैर-खाद्य ऋण) XXX XXX
>सूक्ष्म और लघु मध्यम और बड़े उद्योग (गैर-खाद्य ऋण) XXX XXX
>सेवाएँ (गैर-खाद्य ऋण) XXX XXX
वैयक्तिक ऋण (गैर-खाद्य ऋण)
>प्रमुख क्षेत्रों द्वारा सकल बैंक ऋण XXX XXX
मनी स्टॉक उपाय
>चलन में मुद्रा XXX XXX
>बैंकों के पास कैश ऑन हैंड XXX XXX
>जनता के पास मुद्रा XXX XXX
प्रीपेड भुगतान उपकरण (पीपीआई)
>एम-वॉलेट XXX XXX
>पीपीआई कार्ड XXX XXX
>एनपीसीआई पर खुदरा भुगतान XXX XXX
>तत्काल भुगतान सेवा (आईएमपीएस) XXX XXX
एकीकृत भुगतान इंटरफेस (यूपीआई)
>यूपीआई XXX XXX
>भीम XXX XXX
>यूएसएसडी 2.0 XXX XXX
>यूपीआई बहिष्कृत भीम और यूएसएसडी XXX XXX
विदेशी व्यापार और निवेश

विदेश व्यापार में राष्ट्रीय सीमाओं और क्षेत्रों से परे देशों के बीच वस्तुओं और सेवाओं का आदान-प्रदान किया जाता है। विदेश व्यापार के दो महत्वपूर्ण तत्व वस्तुओं और सेवाओं के लिए आयात (स्वदेश द्वारा अन्य देशों से खरीद) और निर्यात (स्‍वदेश द्वारा अन्य देशों को बिक्री) हैं। विदेशी निवेश का अर्थ एक विदेशी निवेशक द्वारा घरेलू कंपनियों और दूसरे देश की संपत्ति में निवेश करना है।

>आयात XXX XXX
>व्यापार का संतुलन XXX XXX
>एफडीआई निवेश XXX XXX
>एनआरआई निवेश XXX XXX
>एफपीआई निवेश XXX XXX
>विदेशी मुद्रा भंडार XXX XXX
भुगतान संतुलन (बीओपी)
>क्रेडिट XXX XXX
>डेबिट XXX XXX
>नेट XXX XXX
विनिमय दरें

दो मुद्राओं के बीच विनिमय दर वह दर है जिस पर एक मुद्रा को दूसरी मुद्रा से बदला जा सकता है। अर्थात्, विनिमय दर किसी अन्य मुद्रा के संदर्भ में किसी देश की मुद्रा की कीमत है। विनिमय दरें या तो स्थिर या फ्लोटिंग हो सकती हैं। किसी देश के केंद्रीय बैंकों द्वारा निश्चित विनिमय दरें तय की जाती हैं जबकि फ्लोटिंग विनिमय दरें बाजार की मांग और आपूर्ति के तंत्र द्वारा तय की जाती हैं।

विनिमय दरें
>रुपये प्रति 1 अमरीकी डालर XXX XXX
>रुपये प्रति 1 जीबी पाऊंड XXX XXX
>रुपये प्रति 1 यूरो XXX XXX
>रुपये प्रति 100 येन XXX XXX
बुलियन दरें

बुलियन का अर्थ सोना, चांदी, या अन्य कीमती धातुएं बार, सिल्लियां, या विशेष सिक्के होते हैं, जिनके बारे में कहा जाता है कि पारंपरिक मुद्राओं की तुलना में इनका बेहतर मूल्य बना रहता है और इसलिए इसे सरकार और निजी नागरिकों दोनों द्वारा समान रूप से आपातकालीन मुद्रा के रूप में रखा जाता है। बुलियन का उपयोग वैश्विक बाजार में व्यापार के लिए अक्सर अवमूल्यन के जोखिमों को कम करने के लिए भी किया जाता है, जो कि डिजाइन मुद्रा द्वारा सरकार समर्थित फिएट मुद्राओं में होता है।

>चांदी XXX XXX
पूंजी बाजार

पूंजी बाजार एक ऐसा बाजार है जहां खरीदार और विक्रेता वित्तीय प्रतिभूतियों जैसे बॉन्ड, स्टॉक आदि के व्यापार में संलग्न होते हैं। खरीद / बिक्री प्रतिभागियों जैसे व्यक्तियों या संस्थानों द्वारा की जाती है। सामान्य तौर पर इस बाजार में ज्यादातर लंबी अवधि की प्रतिभूतियों में कारोबार किया जाता है। भारत में, दो मुख्य स्टॉक एक्सचेंज बाज़ार हैं : नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई)।

>एनएसई निफ्टी XXX XXX
कंपनियां

एक कंपनी एक सामान्य उद्देश्य को प्राप्त करने की दिशा में एक साथ काम करने के लिए एसोसिएशन और लोगों के समूह द्वारा बनाई गई एक प्राकृतिक कानूनी इकाई है। यह एक वाणिज्यिक या एक औद्योगिक उद्यम हो सकती है। सदस्यों के आधार पर तीन प्रकार की कंपनियां हैं अर्थात् सार्वजनिक कंपनी, निजी कंपनी और एक व्यक्ति की कंपनी।

>बंद कंपनियों XXX XXX
एमएसएमई में पंजीकृत

ये उद्यम मुख्य रूप से माल और वस्तुओं के उत्पादन, निर्माण, प्रसंस्करण या संरक्षण में कार्यरत हैं। एमएसएमई भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है और इसने देश के सामाजिक-आर्थिक विकास में अत्यधिक योगदान दिया है। इससे न केवल रोजगार के अवसर पैदा होते हैं बल्कि देश के पिछड़े और ग्रामीण क्षेत्रों के विकास की दिशा में भी काम किया जाता है।

उद्यम पंजीकरण
>स्माल XXX XXX
>मीडियम XXX XXX
>टोटल उद्योग आधार XXX XXX
पर्यटन

पर्यटन का अर्थ लोगों का अपने सामान्य निवास स्थान से दूसरे स्थान पर (वापसी के इरादे से) 24 घंटे की न्यूनतम अवधि से लेकर अधिकतम 6 माह तक अवकाश और आनंद के एकमात्र उद्देश्य के लिए आना जाना है।

पर्यटन
>ई-टूरिस्ट वीजा XXX XXX
>पर्यटन प्राप्तियां XXX XXX
परिवहन

परिवहन से तात्पर्य लोगों या वस्तुओं के एक स्थान से दूसरे स्थान तक आवागमन से है। इससे दूरी की बाधा को दूर किया जाता है। परिवहन के विभिन्न साधन हैं जैसे सड़क, रेलवे, जल, वायु और पाइपलाइन परिवहन।

वायु यातायात
>यात्रियों की आवाजाही XXX XXX
>माल ढुलाई XXX XXX
बंदरगाहों
>यातायात प्रमुख समुद्री बंदरगाहों पर संभाला XXX XXX
रेलवे
>यात्री बुक XXX XXX
>प्रारंभिक राजस्व टन XXX XXX
>कमाई XXX XXX
दूरसंचार

दूरसंचार वास्‍तव में लंबी दूरियों पर सूचना के इलेक्ट्रॉनिक प्रसारण का साधन है। यह जानकारी वॉयस टेलीफोन कॉल, डेटा, टेक्स्ट, इमेज या वीडियो के रूप में हो सकती है। दूरसंचार सेवाएं एक संचार कंपनी द्वारा प्रदान की जाती हैं जो एक बड़े क्षेत्र में आवाज और डेटा सेवाएं प्रदान करती हैं। इसमें फोन सेवाएं (अर्थात् वायर लाइन और वायरलेस), इंटरनेट, टेलीविजन और व्‍यापारों और घरों के लिए नेटवर्किंग शामिल हैं।

टेलीफोन सदस्य
>कुल टेली-घनत्व XXX XXX
ब्रॉडबैंड ग्राहक
>वायरलाइन सदस्य XXX XXX
ब्रॉडबैंड ग्राहक
>वायरलेस सब्सक्राइबर XXX XXX
ब्रॉडबैंड ग्राहक
>कुल ब्रॉडबैंड ग्राहक XXX XXX
भारतनेट
>जीपीएस में वाई-फाई हॉटस्पॉट स्थापित XXX XXX
>एफटीटीएच कनेक्शन XXX XXX
>डार्क फाइबर XXX XXX
>बिछाई गई ओएफसी की लंबाई XXX XXX
>ग्राम पंचायतें जहां ओएफसी बिछाई गई XXX XXX
>ग्राम पंचायतों को ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी प्रदान की गई XXX XXX
ऊर्जा उत्पादन

विद्युत उत्पादन प्राथमिक ऊर्जा के स्रोतों से विद्युत ऊर्जा उत्पन्न करने की प्रक्रिया है। ऊर्जा के विभिन्न स्रोत हैं जो उपयोग में हैं : 1) पारंपरिक स्रोतों में कोयला और लिग्नाइट, पंप स्टोरेज, परमाणु और प्राकृतिक गैस सहित बड़े हाइड्रो शामिल हैं; 2) नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों में सौर, पवन, बायोमास, लघु पनबिजली आदि शामिल हैं; 3) नई तकनीकों में ग्रिड स्केल बैटरी एनर्जी स्टोरेज सिस्टम शामिल हैं।

>थर्मल XXX XXX
>नाभिकीय XXX XXX
>हाइड्रो XXX XXX
>भूटान आयात XXX XXX
अक्षय ऊर्जा उत्पादन
>हवा XXX XXX
>सौर XXX XXX
प्लांट लोड फैक्टर (पीएलएफ)
>थर्मल XXX XXX
>नाभिकीय XXX XXX
पेट्रोल कीमतें

भारत में वैश्विक कच्चे तेल की कीमत में बदलाव के अनुसार ही पेट्रोल और डीजल की रिटेल की कीमतें तेल कंपनियों द्वारा दैनिक आधार पर संशोधित की जाती हैं। केंद्र सरकार के पास पेट्रोलियम उत्पादों के उत्पादन पर कर लगाने का अधिकार है, जबकि राज्यों के पास उनकी बिक्री पर कर लगाने का अधिकार है।

पेट्रोल की खुदरा बिक्री मूल्य (आरएसपी) (रुपये / लीटर)
>दिल्ली XXX XXX
>मुंबई XXX XXX
>चेन्नई XXX XXX
>कोलकाता XXX XXX
डीजल की खुदरा बिक्री मूल्य (आरएसपी) (रुपये / लीटर)
>दिल्ली XXX XXX
>मुंबई XXX XXX
>चेन्नई XXX XXX
>कोलकाता XXX XXX
बीमा

बीमा दो पक्षों के बीच एक कानूनी संविदा है- बीमा कंपनी (बीमाकर्ता) और व्यक्ति (बीमित), जिसमें बीमा कंपनी बीमित व्यक्ति द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम के बदले में बीमित आकस्मिकताओं के कारण वित्तीय नुकसान की भरपाई करने का वचन देती है। बीमा दो प्रकार के होते हैं : 1) जीवन बीमा, 2) सामान्य बीमा।

प्रीमियम
>जीवन बीमा कंपनियों का प्रथम वार्षिक प्रीमियम XXX XXX
कुल पॉलिसियां / योजनाएं
>जीवन बीमा कंपनियों का प्रथम वार्षिक प्रीमियम XXX XXX
समूह योजनाओं में बीमित सदस्य
>जीवन बीमा कंपनियों का प्रथम वार्षिक प्रीमियम XXX XXX
सामाजिक सुरक्षा

सामाजिक सुरक्षा उन व्यक्तियों की सुरक्षा की प्रणाली दर्शाती है जिन्हें राज्य द्वारा ऐसी सुरक्षा (जैसे सेवानिवृत्ति, इस्तीफा, छंटनी, मृत्यु, अक्षमता) की आवश्यकता होती है जो समाज के व्यक्तिगत सदस्यों के नियंत्रण से बाहर हैं। सामाजिक सुरक्षा नीतियों का उद्देश्य इन समस्याओं और इन स्थितियों के संपर्क में आने वाले व्यक्तियों के सामने आने वाले जोखिमों को कम करना या कवर प्रदान करना है।

ईपीएफ सदस्य
>बहिष्कृत सदस्यों की संख्या XXX XXX
>बाहर निकलने वाले सदस्यों की संख्या जो फिर से जुड़ गए और फिर से सदस्यता ले ली XXX XXX
>नेट पेरोल XXX XXX
ईएसआई सदस्य
>नव पंजीकृत कर्मचारी XXX XXX
>मौजूदा कर्मचारी XXX XXX
एनपीएस सब्सक्राइबर्स
>नए सदस्य XXX XXX
>मौजूदा सदस्य XXX XXX
चयनित खाद्य वस्तुओं की खुदरा कीमत

रिटेल मूल्य वह वास्‍तविक मूल्य होता है जिस पर वास्‍तविक प्रयोक्‍ता या उपभोक्ता अर्थात ग्राहकों को वस्तु बेची जाती है। इसका अर्थ यह है कि वे ग्राहक उत्पाद को दोबारा बेचने के लिए नहीं बल्कि उसका उपभोग करने हेतु खरीदते हैं। रिटेल मूल्य को निर्माता मूल्य और वितरक मूल्य से अलग किया जाता है।

चावल
>महाराष्ट्र XXX XXX
>पश्चिम बंगाल XXX XXX
>तमिलनाडु XXX XXX
गेहूं
>महाराष्ट्र XXX XXX
>पश्चिम बंगाल XXX XXX
>तमिलनाडु XXX XXX
तुअर/अरहर दाल
>महाराष्ट्र XXX XXX
>पश्चिम बंगाल XXX XXX
>तमिलनाडु XXX XXX
मसूर (दली हुई)
>महाराष्ट्र XXX XXX
>पश्चिम बंगाल XXX XXX
>तमिलनाडु XXX XXX
चीनी
>महाराष्ट्र XXX XXX
>पश्चिम बंगाल XXX XXX
>तमिलनाडु XXX XXX
सरसों का तेल (पैक)
>महाराष्ट्र XXX XXX
>पश्चिम बंगाल XXX XXX
>तमिलनाडु XXX XXX
प्याज
>महाराष्ट्र XXX XXX
>पश्चिम बंगाल XXX XXX
>तमिलनाडु XXX XXX
आलू
>महाराष्ट्र XXX XXX
>पश्चिम बंगाल XXX XXX
>तमिलनाडु XXX XXX
टमाटर
>महाराष्ट्र XXX XXX
>पश्चिम बंगाल XXX XXX
>तमिलनाडु XXX XXX
मज़दूरी दर

औसत दैनिक मजदूरी दरों को पहले दिन में आठ कामकाजी घंटों के लिए सामान्य बनाया जाता है। चुने 20 राज्यों में से प्रत्येक के लिए इन्‍हें निकाला जाता है। अखिल भारतीय स्तर पर औसत मजदूरी दरें सभी 20 राज्यों की कुल मजदूरी को कोटेशन की संख्या से विभाजित करके निकाली जाती हैं। कृषि और गैर-कृषि व्यवसायों के लिए औसत दैनिक मजदूरी दर डेटा एकत्र किया गया।

सामान्य कृषि मजदूरों के लिए औसत दैनिक मजदूरी दरें
>महिलाएं XXX XXX
सामान्य गैर-कृषि मजदूरों के लिए औसत दैनिक मजदूरी दरें
>महिलाएं XXX XXX
प्रमुख सामाजिक योजनाएं

सामाजिक योजनाएं वास्‍तव में सरकारी इकाइयों द्वारा पूरे समुदाय के सदस्यों या समुदाय के विशेष वर्गों को सामाजिक लाभ प्रदान करने के उद्देश्य से लागू और नियंत्रित की जाने वाली योजनाएं हैं।

प्रधानमंत्री जन-धन योजना (पीएमजेडीवाई)
>खातों में जमा XXX XXX
>रूपे डेबिट कार्ड जारी XXX XXX
प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (पीएमएसबीवाई)
>कुल नामांकन XXX XXX
>दावों का भुगतान XXX XXX
प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाई)
>कुल नामांकन XXX XXX
>दावों का भुगतान XXX XXX
प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (पीएमएमवाई)
>स्वीकृत राशि XXX XXX
>उधारकर्ताओं की कुल संख्या XXX XXX
>शिशु XXX XXX
>किशोर XXX XXX
>तरूण XXX XXX
>मुद्रा कार्ड जारी XXX XXX
स्टैंड अप इंडिया योजना
>एससी उद्यमी XXX XXX
>एसटी उद्यमी XXX XXX
>महिला उद्यमी XXX XXX
>कुल XXX XXX
आयुष्मान भारत - प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PMJAY)
>अस्पतालों को पैनलबद्ध किया गया XXX XXX
>हितग्राही भर्ती XXX XXX
>ई-कार्ड जारी किए गए XXX XXX
प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई)
>एलपीजी कनेक्शन जारी XXX XXX
उजाला योजना
>एल ई डी का वितरण किया XXX XXX
>ट्यूबलाइट का वितरण किया XXX XXX
>पंखे बांटे गए XXX XXX
अन्य कल्याणकारी योजनाओं के तहत प्रगति
>जीवन प्रमाण से लाभान्वित पेंशनभोगी XXX XXX
>इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के तहत डोर स्टेप बैंकिंग सेवा प्रदाता XXX XXX
>पीएम भारतीय जन औषधि परियोजना केंद्र XXX XXX
>मृदा स्वास्थ्य कार्ड भेजे गए XXX XXX
>डिजिलॉकर के माध्यम से जारी किए गए दस्तावेज XXX XXX
>पीएम श्रम योगी मान-धन योजना के तहत नामांकित लोग XXX XXX
>पीएम फसल बीमा योजना के तहत पंजीकृत किसान XXX XXX
>डीडीयू-जीकेवाई के तहत प्रशिक्षित लोग XXX XXX
>पीएम ग्राम सड़क योजना के तहत स्वीकृत सड़क की लंबाई XXX XXX
>पीएम आवास योजना के तहत पूर्ण हुए आवास XXX XXX
>स्वच्छ भारत के तहत घरेलू शौचालयों का निर्माण XXX XXX
>सौभाग्य के तहत घरों का विद्युतीकरण XXX XXX
>मिशन इंद्रधनुष के तहत बच्चों का टीकाकरण किया गया XXX XXX
>अटल पेंशन योजना के तहत सदस्य XXX XXX
>पीएम किसान सम्मान निधि योजना के लाभार्थी XXX XXX
कोविड-19 महामारी

कोविड-19 सार्स-कोव-2 वायरस के कारण होने वाली एक वैश्विक महामारी है, जो संक्रमित व्यक्ति के खांसने, छींकने, बोलने या सांस लेने पर उसके मुंह या नाक से छोटे कणों में फैल जाती है। कोविड-19 टीके गंभीर बीमारी, अस्पताल में भर्ती होने और कोरोना वायरस से होने वाली मौतों के खिलाफ मजबूत सुरक्षा प्रदान करते हैं।

कोविड-19 केस
>वे केस जिनकी पुष्टि हो चुकी है XXX XXX
>एक्टिव केस XXX XXX
>बरामद XXX XXX
>वसूली दर XXX XXX
>मौतें XXX XXX
>घातक दर XXX XXX
आयु समूहों द्वारा टीकाकरण
>12-14 वर्ष (पहली खुराक) XXX XXX
>12-14 साल (दूसरी खुराक) XXX XXX
>15-18 वर्ष (पहली खुराक) XXX XXX
>15-18 वर्ष (दूसरी खुराक) XXX XXX
>18 से 59 वर्ष (एहतियात की खुराक) XXX XXX
>18 वर्ष से अधिक (पहली खुराक) XXX XXX
>18 वर्ष से अधिक (दूसरी खुराक) XXX XXX
>कुल टीकाकरण XXX XXX
आयु समूहों द्वारा टीकाकरण

×
Fill the details